पचास हजार लगाया नाबालिग के अस्मत का कीमत - Live Now 24x7

खबरें जो सच बोले

Breaking

Friday, 4 May 2018

पचास हजार लगाया नाबालिग के अस्मत का कीमत

ओह रे समाज के ठीकेदार तेरा रूप भी निराला है..

पंचायत ने पचास हजार लगाया नाबालिग के अस्मत का कीमत, दबंगों ने उतारा मौत के घाट

बलात्कार के आरोपी हुए गांव छोड़कर फरार, जांच में जुटी पुलिस

चतरा : जिले में बेलगाम अपराध पर लगाम लगाने में पुलिस के पसीने छूट रहे हैं। एक तरफ नक्सलियों की चुनौती है तो दूसरी तरफ बेलगाम अपराधी, लिहाजा आम लोग अपराध की तपिश में झुलाश रहे हैं। इसी बीच जिले के ईटखोरी थाना क्षेत्र के राजा तेंदुआ गांव में एक दिल दहला देने वाली वारदात सामने आई है, जिससे वाकिफ होने के बाद किसी के भी रोंगटे खड़े हो सकते हैं। अपनी दबंगई के नशे में चूर चंद वहशी दरिंदों ने एक नाबालिक को अपनी दबंगता दिखाते हुए जिंदा जला दिया। वो चीखती रही, रहम की दुहाई देती रही, लेकिन हैवान बन चुके दबंगों का कलेजा नहीं पसीजा। युवती को आग के हवाले करने पर भी जब उनका कलेजा ठंडा नहीं पड़ा तो युवती के परिजनों की भी बेरहमी से पिटाई कर दी।जिससे वे लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। जानकारी के अनुसार गांव के सम्मत रविदास उर्फ पिटटो की नाबालिक पुत्री की सुंदरता गांव के ही चंद वहशी दरिंदों को भा गई। जिसके बाद मर्यादा को तार तार करते हुए पहले तो उस मासूम बच्ची के अस्मत लूट ली बाद में जब इनके विरोध पंचायत बुलाई गई तो खुद को अपमानित महसूस करते हुए उन लोगों ने घर में घुसकर दिनदहाड़े पीड़ित की जलाकर निर्ममता से हत्या कर दी। इतना में भी जब दिल नहीं माना तो दबंगों ने कहर उसके पिता सम्मत रविदास व उसकी माँ की निर्ममता से पिटाई कर दी। घटना की सूचना पाकर गांव पहुंची पुलिस ने युवती का अधजला शव बरामद कर लिया है। पीड़ित के अनुसार गांव के धनू भुइयां ने देर रात बच्ची के साथ दुष्कर्म किया था। इसी मामले को ले शुक्रवार को ग्रामीणों के सहयोग से गणव में पंचायत बुलाई गई थी। इस पंचायत में मुखिया तिलेश्वरी देवी व पंचायत समिति सदस्य रंजय रजक समेत ग्रामीण मौजूद थे। पंचायत ने आरोपों को सही मानते हुए आरोपी को पीड़ित परिवार को पचास हजार रूपए हर्जाना व एक सौ बार उठक-बैठक करने का सजा सुनाया। जिसके बाद खुद को अपमानित महसूस ककरते हुई आरोपी ने तो पहले पंचायत का निर्णय मानने से इनकार कर दिया बाद में अपने तीन अन्य सहयोगियों हगलू भुइयां, जगदीश भुइयां व संतोष भुईया के साथ मिलकर पीड़िता के घर मे घुसकर उसे जलाकर मौत के घाट उतार दिया और परिजनों की जमकर पिटाई कर दी।वारदात को अंजाम देने के बाद सभी आरोपी मौके से फरार हो गए। इधर पुलिस शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेजते हुए आरोपियों की गिरफ्तारी को ले लगातार छापेमारी अभियान चला रही है। पुलिस का दावा है कि जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया जाएगा।

पुलिस का दाबा चलिये ठीक है गिरफ्तार भी होंगे जेल भी जाएगा परन्तु उस मासूम की इज्जत लूटने पर समाज के ठीकेदारों ने कैसा न्याय किया ??

इस घटना की जितनी निंदा करें कम है।
मैं इस घटना में दोषी उस पंचायत को भी गिरफ्तार कर जेल भेजने की मांग करता हूँ।

No comments:

Post a Comment