Google का मालिक कौन है? गूगल किस देश की कंपनी है?

Google का मालिक कौन है? गूगल किस देश की कंपनी है? और Google Company को कौन चल रहा है इसे बताने के लिए यह लेख लिखा गया है। आज हमें जब भी किसी भी प्रकार की जानकारी ऑनलाइन प्राप्त करनी होती है तो तुरंत ही हमें गूगल की याद आती है क्योंकि गूगल ही वह […] The post Google का मालिक कौन है? गूगल किस देश की कंपनी है? appeared first on FutureTricks.

Google का मालिक कौन है? गूगल किस देश की कंपनी है?

Google का मालिक कौन है? गूगल किस देश की कंपनी है? और Google Company को कौन चल रहा है इसे बताने के लिए यह लेख लिखा गया है। आज हमें जब भी किसी भी प्रकार की जानकारी ऑनलाइन प्राप्त करनी होती है तो तुरंत ही हमें गूगल की याद आती है क्योंकि गूगल ही वह सर्च इंजन है जो हमें किसी भी प्रकार की जानकारी को तुरंत ही उपलब्ध करवाता है। गूगल हमें जानकारी देने के अलावा अलग-अलग प्रकार की सुविधाएं भी देता है।

Google का मालिक कौन है? गूगल किस देश की कंपनी है?

हम गूगल के द्वारा सोशल मीडिया पर चैटिंग कर सकते हैं, ऑनलाइन मूवी या फिर वीडियो डाउनलोड कर सकते हैं। इसके अलावा लोगों के साथ वीडियो कॉल पर बातचीत भी कर सकते हैं। इतनी सब सुविधा देने के बावजूद भी काफी कम लोग ही यह जानते हैं कि आखिर गूगल कंपनी को किसने बनाया? Google का मालिक कौन है? गूगल किस देश की कंपनी है?

इस आर्टिकल में आज हम जानेंगे कि “गूगल को किसने बनाया” और “गूगल कंपनी के मालिक का नाम क्या है।”

Google का मालिक कौन है?

लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन के द्वारा गूगल का निर्माण किया गया था और इस प्रकार से यही दोनों गूगल कंपनी के मालिक है। लैरी पेज साल 1973 में यूनाइटेड स्टेट ऑफ अमेरिका में 26 मार्च के दिन पैदा हुए थे, वही  सर्गेई ब्रिन का जन्म रसिया के मास्को शहर में साल 1973 में 21 अगस्त के दिन हुआ था।

यह दोनों ही व्यक्ति कोडिंग में काफी ज्यादा इंटरेस्ट रखते थे, साथ ही इन्हें टेक्नोलॉजी में भी काफी ज्यादा रस था और इसी प्रकार से टेक्नोलॉजी में इंटरेस्ट होने की वजह से इन्होंने काफी लंबे समय तक रिसर्च की और गूगल जैसी दुनिया के नंबर वन पोजीशन पर विराजमान सर्च इंजन को खोज निकाला।

अर्थात इसकी गूगल सर्च इंजन की खोज की। आप गूगल के आविष्कारक के तौर पर लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन का नाम ले सकते हैं।

सर्गेई ब्रिन और लैरी पेज के द्वारा जब सर्च इंजन को बनाया गया था तब उसका नाम गूगल नही रखा गया था बल्कि उसका नाम बैक्रब रखा गया था। हालांकि बाद में किसी कारण की वजह से बैक्रब के नाम को चेंज किया गया और फिर उसे गूगल का नाम दिया गया।

गूगल के फाउंडर सर्गेई ब्रिन और लैरी पेज की आपस में मुलाकात अमेरिका की स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में हुई थी और पढ़ाई करने के दरमियान ही इन्होंने गूगल कंपनी को शुरू करने का डिसीजन लिया। और इसके पश्चात संयुक्त राज्य अमेरिका के कैलिफोर्निया शहर के मेंलो पार्क में सन 1998 में 4 सितंबर के दिन इन्होंने एक प्राइवेट कंपनी की शुरुआत की।

गूगल किस देश की कंपनी है?

गूगल कंपनी की स्थापना अमेरिका देश में की गई थी। इस प्रकार से गूगल अमेरिका देश की कंपनी हुई। गूगल कंपनी का हेड क्वार्टर अमेरिका के ही कैलिफोर्निया शहर में मौजूद है और वर्तमान के समय में गूगल कंपनी में काम करने वाले वर्करों की संख्या 1 लाख से ज्यादा हो चुकी है।

आपको जानकर हैरानी होगी कि गूगल कंपनी के द्वारा दुनिया के अधिकतर देशों में अपनी सेवाएं दी जाती है और यही वजह है कि दुनिया के अलग-अलग देशों में इसकी अलग-अलग ब्रांच मौजूद है। गूगल कंपनी में भारतीय लोग भी बड़े पैमाने पर अच्छी-अच्छी पोस्ट पर मौजूद है। यहां तक कि गूगल के वर्तमान सीईओ भी एक इंडियन ही है।

गूगल का सीईओ कौन है?

भारत देश के तमिलनाडु राज्य में एक मध्यमवर्गीय परिवार में साल 1972 में 10 जून को पैदा हुए सुंदर पिचाई वर्तमान समय में गूगल कंपनी के चीफ एक्जीक्यूटिव ऑफिसर की पोस्ट को संभाल रहे हैं। इन्हें साल 2015 में गूगल कंपनी के बोर्ड ऑफ मैनेजमेंट के द्वारा गूगल कंपनी का चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर बनाया गया था और तब से लेकर के यह अभी तक गूगल कंपनी के सीईओ के पद को सही प्रकार से संभाल रहे हैं।

गूगल कंपनी के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर सुंदर पिचाई ने आईआईटी खड़गपुर से इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है। इसके अलावा इन्हें अमेरिका के स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से स्कॉलरशिप भी प्राप्त हो चुकी है। इन्होंने स्कॉलरशिप प्राप्त करने के बाद मास्टर ऑफ साइंस की एजुकेशन पूरी की।

सुंदर पिचाई के द्वारा साल 2004 में हेड ऑफ प्रोडक्ट डेवलपमेंट के पोस्ट के अंतर्गत गूगल कंपनी को ज्वाइन किया गया था। इसके पश्चात साल 2019 में गूगल की पैरंट कंपनी अल्फाबेट के द्वारा भी सुंदर पिचाई को अपनी कंपनी का चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर बनाया गया।

गूगल कंपनी के प्रोडक्ट

गूगल कंपनी के द्वारा अपने यूजर के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण प्रोडक्ट को समय-समय पर लांच किया जाता रहता है। गूगल के द्वारा अभी तक जितने प्रोडक्ट को लांच किया गया है। वह सभी लोगों के लिए बहुत ही उपयोगी साबित हुए हैं। गूगल के द्वारा साल 2005 में एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम और साल 2006 में यूट्यूब को खरीदा गया था। नीचे गूगल के महत्वपूर्ण प्रोडक्ट की लिस्ट दी गई है।

  • गूगल क्रोम ब्राउजर
  • गूगल जीमेल एप
  • गूगल यूट्यूब
  • गूगल एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम
  • गूगल ड्राइव
  • गूगल पे
  • गूगल मैप
  • गूगल ट्रांसलेट
  • गूगल ब्लॉगर
  • गूगल क्लाउड
  • गूगल प्ले स्टोर
  • गूगल ऐडसेंस
  • गूगल एडवर्ड
  • गूगल शीट
  • गूगल डॉक्स
  • गूगल लेंस

गूगल के शेयर सबसे ज्यादा किसके पास है?

गूगल कंपनी के फाउंडर लैरी पेज के पास गूगल का तकरीबन 27.04% शेयर मौजूद है वही सर्जे ब्रिन के पास गूगल का तकरीबन 26.9% शेयर मौजूद है। इसके अलावा गूगल कंपनी में अन्य लोग भी अपनी हिस्सेदारी रखते हैं।

हालांकि सबसे ज्यादा शेयर गूगल कंपनी के लैरी पेज और सर्गे ब्रिन के पास ही है। इसलिए जब यह सर्च किया जाता है कि गूगल कंपनी का मालिक कौन है अथवा गूगल का मालिक कौन है तो लैरी पेज और सर जी ब्रेन का नाम आता है।

गूगल की कमाई कैसे होती है?

काफी लोग यह सोचते हैं कि हमारे द्वारा गूगल पर सभी चीजें तो मुफ्त में की जाती है तो आखिर गूगल कैसे अपने यहां काम करने वाले कर्मचारियों को पेमेंट देता है और कैसे गूगल अपनी कमाई करता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि गूगल की 96% कमाई एडवर्टाइजमेंट के जरिए होती है।

गूगल मुख्य तौर पर एडवर्ड और ऐडसेंस के द्वारा पैसे कमाता है क्योंकि गूगल पर रोजाना का ट्रैफिक करोड़ों और अरबों में है। ऐसे में गूगल की कमाई बहुत ही ज्यादा होती है। गूगल ना सिर्फ खुद पैसे कमाता है बल्कि ऐडसेंस के द्वारा ब्लॉगिंग करने वाले लोगों को भी पैसे कमाने का मौका देता है।

गूगल की कमाई एडवर्ड से

गूगल एडवर्ड का इस्तेमाल करके कोई भी कंपनी अपने प्रोडक्ट की मार्केटिंग कर सकती है अथवा अपने प्रोडक्ट का प्रचार कर सकती है। इसके अंतर्गत कंपनी गूगल एडवर्ड को पैसे देती है।

और उसके पश्चात गूगल एडवर्ड विभिन्न वेबसाइट पर और यूट्यूब वीडियो के शुरुआत में अथवा बीच में उस कंपनी के प्रोडक्ट अथवा सर्विस की एडवर्टाइजमेंट दिखाता है, जिसकी वजह से कंपनी की सर्विस अथवा प्रोडक्ट का प्रचार होता है और गूगल उसका प्रचार करने के बदले में कंपनी से पैसे लेता है।

आप भी चाहें तो अपनी किसी भी सर्विस अथवा प्रोडक्ट का प्रचार करने के लिए गूगल के एडवर्ड सर्विस का इस्तेमाल कर सकते हैं। गूगल को रोजाना अरबों रुपए की एडवर्टाइजमेंट की डील प्राप्त होती है।

गूगल की कमाई ऐडसेंस से

गूगल अपनी ऐडसेंस सर्विस के द्वारा दूसरी वेबसाइट और ब्लॉग पर एडवर्टाइजमेंट दिखाता है और इसके बदले में जितने भी क्लिक आते हैं। उसके हिसाब से तकरीबन 55% की कमाई गूगल अपने पास ही रख लेता है और तकरीबन 45% की कमाई गूगल वेबसाइट अथवा ब्लॉग को चलाने वाले व्यक्ति को देता है।

इस प्रकार से गूगल हर वेबसाइट और ब्लॉग के द्वारा रोजाना करोड़ों रुपए की कमाई करता है। अगर आप गूगल से पैसे कमाना चाहते हैं तो आप भी अपनी खुद की वेबसाइट अथवा ब्लॉग बना सकते हैं और उसे गूगल ऐडसेंस के साथ जोड़ सकते हैं।

FAQ:

गूगल का फुल फॉर्म क्या है?

ग्लोबल ऑर्गनाइजेशन ऑफ ओरिएंटेड ग्रुप लैंग्वेज ऑफ अर्थ

गूगल के आविष्कारक कौन है?

लैरी पेज और सर्गी ब्रिन

गूगल क्या है?

अमेरिकन मल्टीनैशनल टेक्नोलॉजी कंपनी

गूगल की स्थापना कब हुई?

4 सितंबर 1998

गूगल के फाउंडर कौन है?

लैरी पेज और सर्गी ब्रिन

इस लेख मे हमने आपको Google का मालिक कौन है? गूगल किस देश की कंपनी है? के बारे मे बताने का प्रयास किया है, इसे पढ़ने के बाद आप Google कंपनी और इसके कार्यप्रणाली को समझ पा रहे होंगे।

Hope अब आपको Google का मालिक कौन है? गूगल किस देश की कंपनी है? समझ आ गया होगा, और आप जान गये होगे की गूगल किस देश का है और किस तरीके से यह कंपनी पैसा कमाती है। 

अगर आपके पास कोई सवाल है, तो आप नीचे कमेंट में पूछ सकते हो. और अगर आपको यह पोस्ट हेल्पफुल लगा हो तो इसको सोशल मीडिया पर अपने अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हो.

The post Google का मालिक कौन है? गूगल किस देश की कंपनी है? appeared first on FutureTricks.